सोमवार, 9 मार्च 2009

क्यूं तड़का ?

उसके बिना दाल घर की मुर्गी है !

और सुगंध उत्तानपाद। भले सत्य ही हो !तो 'बवाल ये ब्लॉग ही तुम्हारे नाम ! भले नाराज़ भी हो तो क्या ? आ जाया करना जब गुस्सा कम हो !

8 टिप्‍पणियां:

  1. अरे बाप रे सर, आपको ये कहा किसने कि हम आपसे गुस्सा हैं ? ना ना ना ये तो हो ही नहीं सकता सर जी । तौबा तौबा। हमारे नैट से पिछले कुछ दिन दूर रहने की वजह पूना में अत्यधिक व्यस्तता रही सर, और कुछ भी। क्या सर हमें तो लगता है आप ऐसा कह कर हमारी मौज ले रहे थे है ना हा हा । आपको होली की बहुत बहुत शुभकामनाएं। बहुत बढ़िया ब्लाग छौंक सिंह तड़का हा हा हा। क्या बात है चलने दीजिए मज़ा आएगा। हा हा हा

    उत्तर देंहटाएं
  2. BAWAL BHAYEE, MAJAK ME HEE LEN . MAIN JANTA HOON BAWALIYON KO GUSSA AA HEE NAHEEN SAKTA .AANA BHEE HO TO APAN JAISON KE BAWAL SE KAFOOR HONE ME VAQT HEE KYA LAGTA HAI !

    GHAYAL KEE GATI GHAYAL JANE ,BAWAL KEE BAWALEE.
    KHALEE HAATH NA JAYE KABHEE KOYEE SAWALEE.

    VAISE AAP FULL TIME HO , APAN TO PART TIME .

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक बवाली क्लब बना लेँ .

    फिर कोई बवाल नही करेगा .

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप का ब्लोग मुझे बहुत अच्छा लगा और आपने बहुत ही सुन्दर लिखा है ! मेरे ब्लोग मे आपका स्वागत है !

    उत्तर देंहटाएं
  5. koi nayi post nahin??

    kripya batayen yah header mein kis ki picture hai?dekhi hui si lag rahin hain..

    [Sir,aap mere blog tak aaye aap ne shubhkamnayen di unke liye tahey dil se shukriya.]

    उत्तर देंहटाएं
  6. Raj ji jalebi ke baare mein jo aapne kahani sunaayi, padhke mazaa aa gaya!!! Is baar zaroor try keejiyega recipe taaki aap sabko bataa saken........MAINE BANAYA......SCRATCH SE!!!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. raaj ji ,appke is naye blog pe aakar bahut achchaa laga aur saath me khushi bhi hui .aap achchha likhate bhi hai bolate bhi hai .main kabhi kisi se mili nahi nahi baate kiya isliye bolane me gharaati hoon .is duniya me dost ke wazah se aai usi ke kahane par sab se judne koshish kar rahi hoon .

    उत्तर देंहटाएं